छत्तीसगढ़: सचिव आंदोलन आज भीख मांगेंगे, इसके बाद में भैंस के आगे बजाएंगे बीन

1
21

महासमुंदशासकीयकरण की मांग को लेकर प्रदेश बीते 13 दिनों से पंचायत सचिव आंदोलन पर बैठे हैं। सचिव संघ ने मांग पूरे नहीं होने तक आंदोलन वापस नहीं लेने पर अड़े हुए हैं। राज्य पंचायत सचिव संगठन सरकार से अपनी मांगे मनवाने के लिए 20 दिन के कार्यक्रम का लेखा-जोखा तय किया था। इस लेखा-जोखा में भैंस के आगे बीन बजाना भी शामिल है। प्रदेश पंचायत सचिव संगठन ने प्रस्तावित कार्यक्रम की रूपरेखा के मुताबिक सभी ब्लॉक अध्यक्ष एवं जिला अध्यक्षों को क्रियान्वयन के लिए भेज दिया है।

बतादें पंचायत सचिव आज 8 जनवरी को जिले के सभी धरना स्थल पर भीख मांगकर धन संग्रहण करने की बात कही है। इसके बाद प्रदेश सरकार को धन दान करने की योजना बनाई है। महासमुंद जिला मुख्यालय में धरने पर बैठे पंचायत सचिव भी धरना स्थल पर भीख मांगकर धन संग्रहण करने के बाद प्रदेश शासन को भेजने के लिए कलेक्टर को सौपेंगे। पंचायत सचिव अपनी मांगों से आम लोगों को जोड़ने और उनका समर्थन पाने के लिए सोशल मीडिया का भी सहारा ले रहे हैं। सचिव सभी कार्यक्रम का वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया में पोस्ट करेंगे। साथ ही पत्र लिखकर सीएम को भेजकर मांगों को पूरा करने की अपील करेंगे।

राशिफल: जानिए क्या कहता है शुक्रवार को आपका आज का राशिफल

26 तक के लिए आंदोलन के जारी कार्यक्रम का रूपरेखा ये है

8 जनवरी : सभी धरना स्थल में भीख मांगकर धन संग्रहण करेंगे। छत्तीसगढ़ शासन को धान दान करेंगे।

9 जनवरी : सभी धरना स्थल में हल्ला बोल कार्यक्रम के अन्तर्गत थाली/नगाड़ा/टीपा बजाकर हल्ला करना।

11 जनवरी : राज्य के सभी धरना स्थल में सरकार को नींद से जगाने के लिए भैंस लाकर उनके सामने बिन बजाएंगे।

12 जनवरी : पूरे प्रदेश में सभी धरना स्थल पर पंचायत सचिव मांगों को पूरा करने क्रमिक भूख हड़ताल शुरू करेंगे।

20-21 जनवरी : प्रांत स्तर पर धरना स्थल बूढा तालाब में भूख हड़ताल करेंगे।

24-25 जनवरी : राजधानी रायपुर के धरना स्थल से परिवार सहित जंगी रैली के माध्यम से मुख्यमंत्री निवास का घेराव करेंगे।

26 जनवरी : प्रदेश के सभी पंचायत सचिवों राजधानी रायपुर में धरना-प्रदर्शन करेंगे।

गजब: बस्तर में एक दूल्हा और दो दुल्हन ने एक मंडप पर साथ लिए फेरे

loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here